विशेषण किसे कहते है परिभाषा और भेद : हिन्दी व्याकरण

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

विशेषण किसे कहते है (What is an adjective,Visheshan kise kahate hai) :- नमस्कार दोस्तों इस पोस्ट के माधयम से आज हम बात करने वाले है हिंदी व्याकरण (Hindi Vyakran) के एक बहुत अच्छे टॉपिक के बारे में जो है विशेषण (Adjective)। बहुत सी प्रतियोगी परीक्षाओ के लिए विशेषण बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक है। इस पोस्ट के माध्यम से हम पढ़ेंगे की विशेषण किसे कहते है (Visheshan kise kahate hai) ,हिन्दी में विशेषण के कितने भेद है (Visheshan ke kitne bhed hai)आदि के बारे में। तो आइये देखते है विशेषण  के बारे में एक छोटी सी जानकारी।

विशेषण किसे कहते है

विशेषण (adjective) वे शब्द होते हैं जो संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताते हैं। ये शब्द वाक्य में संज्ञा के साथ लगकर संज्ञा की विशेषता बताते हैं। विशेषण विकारी शब्द होते हैं एवं इन्हें सार्थक शब्दों के आठ भेदो में से एक माना जाता है।बड़ा, काला, लम्बा, दयालु, भारी, सुंदर, कायर, टेढ़ा–मेढ़ा, एक, दो, वीर पुरुष, गोरा, अच्छा, बुरा, मीठा, खट्टा आदि विशेषण शब्दों के कुछ उदाहरण हैं।

विशेषण के कितने भेद है / Visheshan ke bhed

विशेषण के चार भेद होते है। ये निम्नलिखित है :-

  • गुणवाचक विशेषण (Gunvachak Visheshan)
  • संख्यावाचक विशेषण (Sankhya Vachak Visheshan)
  • परिमाणवाचक विशेषण (Parimaan Vachak Visheshan)
  • सार्वनामिक विशेषण (Sarvanamik Visheshan)

गुणवाचक विशेषण / Gunvachak Visheshan

जो विशेषण हमें संज्ञा या सर्वनाम के रूप, रंग आदि का बोध कराते हैं वे गुणवाचक विशेषण कहलाते हैं। जैसे:

  • गुजरी महल एक सुन्दर इमारत है।
  • कोलकाता में पुराना घर है।
  • यह घोड़ा कमजोर है।
  • यह आम मीठा है।
समय संबंधी   नया, पुराना, ताजा, वर्तमान, भूत, भविष्य, अगला, पिछला आदि।
स्थान संबंधी लंबा, चौड़ा, ऊँचा, नीचा, सीधा, बाहरी, भीतरी आदि।
आकार संबंधी गोल, चौकोर, सुडौल, पोला, सुंदर आदि।
दशा संबंधी दुबला, पतला, मोटा, भारी, गाढ़ा, गीला, गरीब, पालतू आदि।
वर्ण संबंधी लाल, पीला, नीला, हरा, काला, बैंगनी, सुनहरी आदि।
गुण संबंधी भला, बुरा, उचित, अनुचित, पाप, झूठ आदि।
संज्ञा संबंधी मुंबईया, बनारसी, लखनवी आदि।

संख्यावाचक विशेषण / Sankhya Vachak Visheshan

जो विशेषण शब्द किसी संज्ञा या सर्वनाम की संख्या का बोध कराते हैं, उन्हें संख्यावाचक विशेषण कहते हैं | जैसे:-

  • राधा पाँचवी मंज़िल पर रहती है |
  •  इस प्रतियोगिता में चार लड़के भाग लेंगे |

संख्यावाचक विशेषण के भी दो प्रकार हैं-

  • निश्चित संख्यावाचक विशेषण: निश्चित संख्यावाचक विशेषण जैसे- एक, पाँच, सात, बारह, तीसरा, आदि।
  • अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण: अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण जैसे- कई, अनेक, सब, बहुत आदि।

परिमाणवाचक विशेषण / Parimaan Vachak Visheshan

जिस विशेषण से किसी वस्तु की नाप-तौल का बोध होता है, उसे परिमाण-बोधक विशेषण कहते हैं। जैसे:-

  • मुझे दो मीटर कपड़ा दो।
  • उसे एक किलो चीनी चाहिए।

सार्वनामिक विशेषण / Sarvanamik Visheshan

जो शब्द असल में व्यक्तिवाचक संज्ञा से बने होते हैं और विशेषण शब्दों का निर्माण करते हैं, वे शब्द व्यक्तिवाचक विशेषण कहलाते हैं।
जैसे: –

  • आपका यह लखनवी अंदाज़ मुझे अच्छा लगा।
  • हमारी दूकान पर जयपुरी मिठाइयां मिलती हैं।

विशेषण की अवस्थाएँ

विशेषण शब्द किसी संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बतलाते हैं। विशेषता बताई जाने वाली वस्तुओं के गुण-दोष कम-ज़्यादा होते हैं। गुण-दोषों के इस कम-ज़्यादा होने को तुलनात्मक ढंग से ही जाना जा सकता है। तुलना की दृष्टि से विशेषणों की निम्नलिखित तीन अवस्थाएँ होती हैं-

  • मूलावस्था
  • उत्तरावस्था
  • उत्तमावस्था

मूलावस्था :- मूलावस्था में विशेषण का तुलनात्मक रूप नहीं होता है। वह केवल सामान्य विशेषता ही प्रकट करता है। जैसे-
सावित्री सुंदर लड़की है।

उत्तरावस्था:-  जब दो व्यक्तियों या वस्तुओं के गुण-दोषों की तुलना की जाती है तब विशेषण उत्तरावस्था में प्रयुक्त होता है। जैसे-
रवीन्द्र चेतन से अधिक बुद्धिमान है।
सविता रमा की अपेक्षा अधिक सुन्दर है।

उत्तमावस्था:- उत्तमावस्था में दो से अधिक व्यक्तियों एवं वस्तुओं की तुलना करके किसी एक को सबसे अधिक अथवा सबसे कम बताया गया है। जैसे-
पंजाब में अधिकतम अन्न होता है।
संदीप निकृष्टतम बालक है।

विशेषण की अवस्थाओं के रूप

मूलावस्था उत्तरावस्था उत्तमावस्था
अच्छी अधिक अच्छी सबसे अच्छी
चतुर अधिक चतुर सबसे अधिक चतुर
बुद्धिमान अधिक बुद्धिमान सबसे अधिक बुद्धिमान
बलवान अधिक बलवान सबसे अधिक बलवान

विशेष्य

जिस संज्ञा अथवा सर्वनाम शब्द की विशेषता बताई जाए वह विशेष्य कहलाता है।जैसे :- गीता सुन्दर है। – इसमें सुन्दर- विशेषण है और गीता विशेष्य है।

प्रविशेषण

कुछ शब्द विशेषणों की भी विशेषता बताते हैं, ऐसे शब्दों को प्रविशेषण कहते हैं। जैसे :- वह अति सुंदर है।

इस लेख में विशेषण किसे कहते हैं (Visheshan kise kahate Hai), विशेषण के भेद (Visheshan ke bhed), प्रकार, हिंदी में विशेषण के बारे में जानकारी (hindi me Visheshan ke baare me jaankari) दी है। यदि जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे।आगे भी ऐसी जानकारी प्राप्त करने के लिए वेबसाइट को बुकमार्क कर ले।

Click Here For More…..

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top